Wednesday, 27 July 2016

शरीर की सभी बीमारियों को दूर करे दालचीनी वाला दूध

शरीर की सभी बीमारियों को दूर करे दालचीनी वाला दूध

 

क्‍या आप अपनी दिनभर की थकान मिटा कर रात में आराम की नींद सोना चाहते हैं? या फिर आपको कैंसर और मधुमेह जैसी घातक बीमारियों से सदा के लिये बचाव चाहिये? तो ऐसे में आपके लिये दालचीनी वाला दूध काफी फायदेमंद हो सकता है।
जैसा की आप सभी जानते हैं कि रात में गरम दूध पीने से नींद काफी अच्‍छे से आती है। ऐसा इसलिये क्‍योंकि इसमें अमीनो एसिड होता है जो आपके दिमाग को शांत कर के नींद दिलाता है।
और अगर इसके साथ आप दालचीनी तथा शहद मिला दें, तो इसमें एंटी बैक्‍टीरियल गुण बढ़ जाते हैं, जो स्‍किन प्रॉब्‍लम और इंफेक्‍शन से लड़ने में सहायक हो जाती है। इसके अलावा यह दूध आपके दिमागी तनाव को दूर करने के साथ साथ मोटापा घटाने में भी मददगार है।

अच्छी नींद के लिए

अगर आपको अच्‍छी नींद नहीं आती है तो आपको दालचीनी वाला दूध पीना चाहिये। सोने से पहले एक गिलास दालचीनी वाला दूध लें, इससे आपको अच्छी नींद आएगी

मजबूत हड्डियों के लिये

दालचीनी वाले दूध में शहद मिला कर पीने से हड्डियां मजबूत होती हैं। विशेषज्ञों की मानें तो इस दूध के नियमित सेवन से गठिया की समस्या नहीं होती है।

कैंसर से बचाए

शहद और दालचीनी में पाया जाने वाला कैमिकल आपको सदा के लिये कैंसर से बचाएगा।

शरीर की इम्‍यूनिटी बढाए

नियमित दालचीनी वाला दूध पीने से शरीर की इम्‍यूनिटी बढ़ती है। यह दूध पुराने जमाने से ही बच्‍चों को पिलाया जाता था, जिससे उनकी शक्‍ती बढ़े।

अच्छे पाचन के लिए

अगर आपकी पाचन क्रिया अच्छी नहीं है तो दालचीनी वाला दूध पीना आपके लिए बहुत फायदेमंद रहेगा। इसके साथ ही गैस की प्रॉब्लम में भी ये राहत देने का काम करता है।

मधुमेह रोगियों के लिये फायदेमंद

कई अध्ययनों में इस बात की पुष्ट‍ि हो चुकी है कि दालचीनी में कई ऐसे कंपाउंड पाए जाते हैं जो ब्लड शुगर को कंट्रोल करने में मदद करते हैं। दालचीनी वाला दूध खासतौर पर टाइप-2 डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद होता है।

गले की खराश और दर्द के लिये

दालचीनी गले के दर्द को ठीक करती है। दालचीनी वाला दूध बनाने के लिये एक पैन में दूध गरम करें, उसमें दालचीनी का एक छोटा टुकडा डालें और गैस को बंद कर दें। फिर इसमें शहद मिला कर छान कर पियें।

खूबसूरत बालों और त्वचा के लिए

दालचीनी वाला दूध पीने से बालों और स्क‍िन से जुड़ी लगभग हर समस्या दूर हो जाती है। इसका एंटी-बैक्टीरियल गुण स्क‍िन और बालों को इंफेक्शन से सुरक्षित रखता है।

दालचीनी वाला दूध बनाने की विधि-

एक भगौन में दूध गरम करें, फिर उसमें दालचीनी का छोटा टुकड़ा डालें और गरम करें। फिर गैस बंद कर दें और दूध में शहद मिला कर उसे छान लें। फिर इसे पियें।

इसे पड़ने के बाद आप कभी नहीं फेकेंगे फटे दूध का पानी..

इसे पड़ने के बाद आप कभी नहीं फेकेंगे फटे दूध का पानी..

 

यूनानी चिकित्सा में कई दवाओं को रोगों के निदान के लिए दूध के साथ या इसमें मिलाकर और उबालकर देते हैं। आइए जानते हैं इसके बारे में-
माउल्जुब्न के लाभ
दूध फाड़कर निकाला गया पानी माउल्जुब्न कहलाता है। यह सुपाच्य होता है जो शरीर में तुरंत अवशोषित हो जाता है। पीलिया रोग और पेट को साफ रखने के लिए इसका प्रयोग करते हैं। लिवर व पेट संबंधी समस्याओं में भोजन को नियंत्रित कर डाइटोथैरेपी दी जाती है। ऎसे में विशेषज्ञ हल्के भोजन के तौर पर इसे पीने की सलाह देते हैं ताकि शरीर में एनर्जी बनी रहे
कमजोर यादाश्त 
विभिन्न औषधियों के शीरे (पानी में औषधि को पीसकर उसका रस निकालना) को दूध में मिलाकर इसका हरीरा तैयार किया जाता है, इसे नियमित रूप से लेने से याददाश्त बढ़ती है। 
गले में सूजन 
अमलतास की फलियों का गूदा निकालकर दूध में उबालें। गुनगुना होने के बाद इससे गरारे करने से गले के दर्द में आराम मिलता है। कफ की परेशानी होने पर दूध में इलायची उबालकर भी पी सकते हैं।
चेहरे पर चमक 
दूध रक्तसंचार को दुरूस्त रखता है जिससे त्वचा की कोशिकाएं स्वस्थ रहती हैं। उबटन (गाजा) को चेहरे पर लगाने से त्वचा चमकदार होती है। इस उबटन को बनाने के लिए कई तरह के अनाज को पीसा जाता है और उसमें दूध, हल्दी व चंदन को मिलाया जाता है। इसके बाद इसे प्रयोग में लेते हैं। 
पनिरमाया
बच्चे के जन्म के बाद गाय, भेड़ या ऊंटनी के दूध से तैयार पनीर को पनीरमाया कहते हैं। इसमें इम्युनोग्लोबिन प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर दिल और दिमाग को मजबूत बनाता है। विशेषज्ञ इसे मरीज की अवस्था व उम्र के अनुसार लेने की सलाह देते हैं। दूध को विभिन्न तरह और विभिन्न चीजों के साथ सेवन से अलग-अलग असर होता है।
 

तेजपत्ता Bay Leaves के गुण और उपयोग।

तेजपत्ता Bay Leaves के गुण और उपयोग।

 

तेजपत्ता मधुमेह, अल्ज़ाइमर्स, बांझपन, गर्भस्त्राव, स्तनवर्धक, खांसी जुकाम , जोड़ो का दर्द, रक्तपित्त, रक्तस्त्राव, दाँतो की सफाई, सर्दी जैसे अनेक रोगो में उपयोगी है। ये हमेशा हरा रहने वाले पेड़ तमाल वृक्ष के पत्ते हैं इसको तमालपत्र, तेज पात या तेजपत्ता कहते हैं। तेजपात मसाले के रूप में बहुतायत में काम लेते हैं। यह सिक्किम, हिमालय, मणिपुर और अरुणाचल प्रदेश में पैदा होते हैं। तेजपात पेड़ से पत्ते तोड़कर धुप में सुखाकर पंसारी की दुकानो पर बेचे जाते हैं। तेजपत्ता में दर्दनाशक, एंटी ऑक्सीडेंट गुण हैं। तेजपत्ता मधुर, कुछ तीक्षण, उष्ण, चिकना, तैलीय होता हैं। वात, कफ नाशक और पाचक होता हैं। आयुर्वेद में अनेक गंभीर रोगो में इसके उपयोग किये जाते हैं। आइये जाने

मधुमेह में तेजपत्ते के प्रयोग।

1. तेजपात को पीसकर बहुत बारीक चूर्ण बना ले। इसकी एक चम्मच नित्य तीन बार पानी से फंकी लेने से मधुमेह के रोगी को शीघ्र लाभ होता हैं। रक्तशर्करा शीघ्र घट जाती हैं।
2. रात को एक चम्मच तेजपात का पाउडर एक कांच के गिलास में डालकर तीन चौथाई गिलास पानी से भर कर चम्मच से अच्छी तरह हिलाएं और ढक कर रख दे। सवेरे उस गिलास के पानी पर जैली जैसी परत जमी हुयी दिखेगी। इस परत को हटा कर फेंक दीजिये, और पानी को
पानी में घोलकर पियें। इसके बाद ठंडा पानी या दूध ना पियें। यह प्रयोग लम्बे समय तक करते रहे। मधुमेह नियंत्रण में रहेगा

स्मरण शक्तिवर्धक – ‘अल्ज़ाइमर्स’ में उपयोगी।

तेजपात मस्तक पोषक हैं। तेजपत्ता एसिटिलकोलाइनैस्टेरै नामक खतरनाक को बनने से रोकता हैं जो मस्तिष्क के सन्देश वाहक हॉर्मोन osteocalcin को तोड़ने का काम करता हैं। तेजपत्ता को नित्य खाए जाने वाले भोजन में शामिल करे। इससे स्मरणशक्ति बढ़ेगी और ‘अल्ज़ाइमर्स’ बीमारी पर नियंत्रण होगा।

बांझपन, गर्भस्त्राव की चिकित्सा।

कभी कभी किसी स्त्री को गर्भधान ही नहीं होता और बांझपन की समस्या का सामना करना पड़ता हैं। किसी को गर्भ ठहरने के बाद गर्भस्त्राव हो जाता हैं। तेजपात दोनों ही समस्याओ को दूर करता हैं। तेजपात का पाउडर चौथाई चम्मच तीन बार पानी से नित्य फंकी ले। कुछ महीने तेजपात की फंकी लेने से गर्भाशय की शिथिलता दूर होकर गर्भधारण हो जाता हैं। जिन स्त्रियों को गर्भस्त्राव होता हो, वे गर्भवती होने के बाद इसी प्रकार तेजपात पाउडर की फंकी कुछ महीने ले। इस प्रकार तेजपात से गर्भ सम्बन्धी दोष दूर होकर गर्भधारण में सहायता मिलती हैं।

स्तनवर्धक।

तेजपात पाउडर की फंकी लेने से जिन स्त्रियों के स्तन बहुत छोटे पतले होते हैं, उनके स्तनों का आकार बढ़कर मोटा हो जाता हैं। तेजपात का तेल किसी अन्य तेल में मिलाकर मालिश भी करे।

जुकाम खांसी।

1. तेजपात कफजन्य रोगों को ठीक करता है। चौथाई चम्मच तेजपात पाउडर की गर्म पानी से नित्य तीन बार फंकी लेने से सर्दी जुकाम और खांसी ठीक हो जाती हैं।
2. तेजपात और छोटी पीपल समान मात्रा में पीसकर आधा चम्मच चूर्ण को एक चम्मच शहद में मिलाकर तीन बार चाटने से खांसी ठीक हो जाती हैं।

जोड़ो का दर्द, मूत्रल, ज्वराघ्न।

तेजपात के चार पत्ते एक गिलास पानी में उबाले। उबलते हुए पानी आधा रहने पर छानकर नित्य तीन बार पियें। इससे पेशाब अधिक आता हैं, ज्वर या बुखार पसीना आकर उत्तर जाता हैं तथा पुन: ज्वर नहीं आता, बढ़ता। बदन का दर्द ठीक हो जाता हैं।

सिरदर्द।

सर्दी या गर्मी में किसी भी कारण से सिरदर्द हो, तो तेजपात डंठल सहित पीसकर हल्का गर्म करके ललाट पर लेप कर दें। दर्द मिट जायेगा।

रक्तपित्त – रक्तस्त्राव।

मुंह, नाक, मल, मूत्र किसी भी रास्ते से रक्त निकलने पर एक गिलास ठन्डे पानी में एक चम्मच पिसा हुआ तेजपात मिलाकर हर तीन घंटे बाद पिलाने से रक्तस्त्राव बंद हो जाता हैं।

दाँतो की सफाई।

सूखे तेज पत्तो को बारीक पीसकर हर तीसरे दिन एक बार मंजन करें। इससे दांत चमकने लगेंगे।

सर्दी के रोग।

सर्दी से शरीर में दर्द, नाक में सुरसुराहट, छींके आना, पानी गिरना, सिर में भारीपन, जलन, गला बैठना, तालु छिलना, आदि होने पर १० ग्राम तेजपात कूटकर तवे पर सेंककर रख लें। इसका १ भाग, २ कप पानी, स्वादानुसार दूध, चीनी मिलाकर चाय की तरह उबालकर, छानकर नित्य ३ बार पीने से सर्दी जनित रोग ठीक हो जाते हैं।

विशेष।

जो लोग आहार विहार विहार के नियमो का पालन करते हैं, उनको दवाओ की आवश्यकता ही नहीं पड़ती। वे घर में ही उपलब्ध दालचीनी, तेजपात आदि के प्रयोगो से स्वस्थ हो सकते हैं।

मोटापा घटाए एक चम्मच जीरा ! जरूर पढियेगा..

मोटापा घटाए एक चम्मच जीरा ! जरूर पढियेगा..

 

जीरा आपके खाने में स्वाद तो लाता ही है साथ ही यह कई रोगों का उपचार भी करता है। जीरा में मैंगनीज, आयरन, मैग्नीशियम, कैल्शियम, जिंक और फॉस्फोरस भरपूर मात्रा में होता है। इसे मेक्सीको, इंडिया और नार्थ अमेकिरा में बहुत उपयोग किया जाता है। जीरा की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह तेजी से वजन को घटाने में मदद करता है।
जीरा के पाउडर को खाने से आपकी बॉडी में फैट जमा नहीं हो पाता। आपकी बॉडी में फैट नहीं होगा तो वजन खुद ब खुद कम हो जाएगा।

एक बड़े चम्मच जीरे को एक गिलास पानी में भिगोकर पूरी रात रखें। सुबह इसे उबाल लें और गर्म-गर्म चाय की तरह पी लें। बचे हुए जीरे को चबा कर खा भी सकते हैं।
 ऐसा रोज करने से बॉडी के किसी भी कोने में फैट नहीं जम पाएगा साथ ही अनावश्यक फैट भी बाहर निकल जाएगी।
इसका सेवन करने से एक घंटे पहले कुछ न खाएं। जीरा हमारे डाइजेस्टीव सिस्टम को और भी ज्यादा स्ट्रोंग बनाता है। इससे एनर्जी लेवल तो बढ़ता ही है साथ ही मेटाबॉलिज्म का लेवल भी तेज होता है। मोटापा कम करने के अलावा जीरा कई बीमारियों से दूर करता है।

Monday, 25 July 2016

अगर अपना शादीशुदा जीवन बचाना चाहते हैं तो इन 5 बातों पर जरूर ध्यान दें

अगर अपना शादीशुदा जीवन बचाना चाहते हैं तो इन 5 बातों पर जरूर ध्यान दें


शादी को फ्रूटफुल बनाने के लिए कपल को साथ-साथ कुछ फैसले लेने होते हैं। अगर आप अपनी शादीशुदा जीवन में समस्याओँ का सामना कर रहे हैं और तलाक की नौबत

से बचाना चाहते हैं तो यहां कुछ बातें बताई गई हैं उनपर जरूर गौर करें।

- आप दोनों अपने मतभेदों को स्वीकार करते हुए सहमति से बीच का रास्ते बनाएं। यह तभी होगा जब आप स्वीकार करेंगे कि ताली बजाने के लिए दोनों हाथ की जरूरत

होती है। तब आप फिर से मिलने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने की आवश्यक स्टेप की स्थिति में आएंगे।



अनार का जूस और खजूर का ये मिश्रण बचा सकता है आपकी जिंदगी


अनार का जूस और खजूर का ये मिश्रण बचा सकता है आपकी जिंदगी


अगर आपको अनार और खजूर दोनों पसंद हैं तो यह डिश, आपके लिए ही है। हाल ही के शोध से पता चला है कि अनार जूस और खजूर का एक साथ सेवन आपको हार्ट की कई बीमारियों से दूर रखता है।  बस आपको एक गिलास अनार का जूस का और खजूर के कुछ दानों की ज़रूरत है

ये हार्ट के लिए ज़रूरी क्यों है:

इजराइल इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी के रिसर्चर की टीम के अनुसार, अनार जूस और खजूर का एक साथ सेवन हमें अथेरोक्लेरोसिस(atherosclerosis) से बचाता है, जो कि हार्ट अटैक या स्ट्रोक का मुख्य कारण है। यह रिसर्च ‘ फ़ूड एंड फंक्शन जर्नल ’में प्रकाशित हुई है । उनके रिसर्च के अनुसार, जहाँ अनार जूस में पा

ॉलीफेनोलिक एंटीऑक्सीडेंट अधिक मात्रा में पाया जाता है, जो कि ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करने के लिए जाना जाता है । वहीँ दूसरी तरफ खजूर फेनोलिक रेडिकल स्कावेंगेर(scavenger) एंटीऑक्सीडेंट के मुख्य स्रोत हैं जो खराब कोलेस्ट्रॉल के ऑक्सीडेशन को रोकते हैं । दोनों को एक साथ मिलाकर लेने से एक गुणकारी मिश्रण बनता है जो की हमे फिट रखने में मदद करता है।

15 दिन में मोटापे को घटाने के लिए डाइट प्लेन

15 दिन में मोटापे को घटाने के लिए डाइट प्लेन 




सात दिन कम से कम प्रतिदिन दस गिलास पानी अवश्य पीयें।
1) पहला दिन :-
केले के अलावा सारे फल खायें। जितना मर्जी फल फ्रूट खायें। खास कर तरबूज खायें।
2) दूसरा दिन :-
सलाद और सब्जियां। जो कच्ची खायी जा सकती वे सब्जियां कच्ची ही खायें अथवा उबाल कर या पका कर खायें। सुबह नाश्ते में थोड़े से मक्खन के साथ भुना आलू खाने को कहा गया है मगर मैं इस दिन उबला आलू मसल कर उसमें प्याज और मसाला डाल उसी तरह तैयार कर लेता जैसे कि परांठा बनाने के लिये उबले आलू को मसल कर मसाला बनाया जाता है। इससे पेट भी भरा भरा रहता है।



कुछ ही सेकंड्स में पाए दांतों के दर्द से राहत..!!

 कुछ ही सेकंड्स में पाए दांतों के दर्द से राहत..!!


सबसे बुरा दर्द और परेशान करने वाला दर्द दांत के दर्द माना जाता है जो की बर्दाश्त से बाहर होता है यह दर्द आपकी मनोदशा को ख़राब कर देता है इसकी वजह से आप कुछ भी खा पी नहीं सकते दांत के दर्द के कई कारण हो सकते है

कुछ ही सेकंड्स में दांतों के दर्द से राहत, साथ में इन 6 दन्त रोगों में अचूक औषिधि:

1. मसूढ़ों की बीमारिया

2. दंत संक्रमण

3. दंत पर चोट

4. टुटा हुआ दंत

5. दंत निकलना

6. गलत भराई



सुन्दर दिखें बिना पार्लर जाये

सुन्दर दिखें बिना पार्लर जाये






कुछ बातें जो बचाएंगी आपकी सुंदरता

1. आप नियमित रूप से फल का जूस लेना शरू करें. यदि अंदरूनी रूप 

से स्वस्थ होंगी तो इसका प्रभाव आपके चेहरे पर भी दिखेगा . 
2. घर से बाहर निकलने से पहले आप नींबू पानी ले सकती हैं. साथ ही आप रोज एक टमाटर भी लें. नियमित रूप से लेने से आप खुद फर्क महसूस करेंगी.
3. घर से बाहर निकलें तो चेहरे को किसी कपड़े से ढक लें. इसके अलावा आप आप सन ग्लासेस का भी प्रयोग करें इससे आप अपनी आंखों के निचले हिस्से को धूप से बचाए रख पाएंगी.



अब कहें पिंपल्स को हमेशा के लिए बाय

अब कहें पिंपल्स को हमेशा के लिए बाय



नींबू में एंटी-बैक्टीरियल गुण पाया जाता है, जो बैक्टीरिया के संक्रमण को बढ़ने नहीं देता. ऐसे में इन उपायों को अपनाकर आप मुंहासों की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं…

 1. नींबू का रस:
एक कटोरी में नींबू का रस ले लें. उसमें रूई का एक टुकड़ा डालकर उसे निचोड़ लें और इसे मुंहासों से प्रभावित स्थान पर लगाएं. इसे त्वचा पर 10 मिनट तक लगा रहने दें.उसके बाद इसे पानी से धो लें और साफ तौलिए से हल्के हाथों से पोंछ लें. इस प्रक्रिया को हर रोज दिन में दो बार दोहराएं. कुछ ही दिनों में आपको फर्क नजर आने लगेगा.


इन 7 घरेलू उपचार से निखारे अपने चेहरे का रंग

इन 7 घरेलू उपचार से निखारे अपने चेहरे का रंग




हर एक महिला का सपना होता है कि उसकी त्वचा का रंग साफ सुंदर और चमकदार हो जिसको देख लोग उसकी तारीफों के पुल बाधें। जिसके लिये वो अपनी त्वचा पर

निखार लाने के लिये बाजार में मिलने वाली कई प्रकार की क्रीमों का उपयोग करती है। जिससे त्वचा में निखार तो आ जाता है पर वो भी कुछ ही पलों के लिये होता है और बाद में चेहरा रूखा और बेजान लगने लगता है | हम आपको कुछ ऐसे घरेलू नुस्खे बता रहे है जिससे आपकी त्वचा का निखार प्राकृतिक रूप से दमकेगा और इसमें पाया गया निखार कुछ पलों का नही बल्कि हमेशा यूं ही बना रहेगा। यहां पर हम आपको आपकी त्वचा में निखार लाने 7 घरेलू प्राकृतिक उपचार बता रहे है। जो आपको अच्छे परिणाम देगें।



 1. एप्पल मास्क-सेब का सेवन रोज करने से दिल की बीमारी जैसी समस्या दूर होती है इसका सेवन डॉ. के द्वारा भी रोज करने के लिये कहा जाता है। इसमें विटामिन ए

एवं सी भरपूर होता है तथा इसमें कॉपर जैसे रासायनिक तत्व की भरपूर मात्रा पाई जाती है। जो हमारी त्वचा के रंग को साफ कर चमक पैदा करने में महत्वपूर्ण भूमिका

निभाता है।
इसका फैसपैक तैयार करने के लिये सबसे पहले एक सेव का टुकड़ा लें इसें कच्चे दूध के साथ पीसकर इसमें नीबू का रस मिलाकर चेहरे का फैस पैक तैयार करें और इसे अपने चेहरे गर्दन पर लगाएं करीब 15 मिनट तक लगे रहने के बाद इसे गुनगुने पानी से धो लो।

वजन बढा़ने के टिप्स,वजन बढ़ाने के लिए क्या करें?


वजन बढा़ने के टिप्स,

 वजन बढ़ाने के लिए भी आपको व्यायाम और सैर की जरूरत है ताकि आप एक्ट्रा कैलोरी बर्न कर सकें और संतुलित रूप से अपना वजन बढ़ा सकें।
  • वजन बढ़ाने के लिए आपको नाश्ता हैवी करना होगा और डिनर हल्का।
  • यदि आप वाकई अपने वजन को बढ़ाना चाहते हैं तो आपको हाई कैलोरी, वसायुक्त‍ भोजन और प्रोटीन, मिनरल्स की मात्रा अपने खाने में बढ़ाने होगी।
  • आप ऐसे में महीने में दो बार अपने वजन को चेक करें।
  • यदि आप वजन बढ़ाना चाहते हैं तो अपना हेल्दी और हाई प्रोटीन, हाई कैलोरी युक्त डायट चार्ट बनाएं और उसे सही तरीके से फॉलो करें।
  • आपको भूख नहीं लगती फिर भी आपको दिन में हर दो-तीन घंटे के अंतराल में भोजन करना चाहिए।
  • जंकफूड चिप्स, पिज्जा, बर्गर, तले पदार्थ इत्यादि खाने से बचें।

तीखी मिर्ची से कैसे करें जोड़ो के दर्द का उपचार

तीखी मिर्ची से कैसे करें जोड़ो के दर्द का उपचार

मिर्ची या कहें मिर्च स्वाद में चाहे कितनी ही तीखी क्यों ना हो इसके गुणों की भी लंबी सूची है। आइए जानते हैं हरी और लाल मिर्ची के उपयोगी गुण-
1 छोटी-छोटी फुन्सियां उठने पर हरी मिर्च का लेप लगाने से फुन्सियां बैठ जाती है।
2 खाज-खुजली के लिए मिर्च को तेल मे जलाकर मालिश करने से आराम मिलता है।
3 जोड़ों का दर्द होने पर भी यह तेल फायदेमंद होता है।



इन बातो को अपनाएंगे तो 101% नहीं होगा मोटापा सच्ची…

इन बातो को अपनाएंगे तो 101% नहीं होगा मोटापा सच्ची…


1. मोटापे के कारण कई तरह की बीमारियां शरीर को घेर सकती हैं। अधिकांश लोग शुरूआत में मोटापा बढने पर ध्यान नहीं देते हैं, लेकिन जब मोटापा बहुत अधिक बढ़ जाता है तो उसे घटाने के लिए घंटों पसीना बहाते रहते हैं।
2. सब्जियों और फलों में कैलोरी कम होती है, इसलिए ये ज्यादा से ज्यादा खाएं। केला और चीकू न खाएं। इनसे मोटापा बढ़ता है।
3. चाय में पुदीना डालकर पीने से मोटापा कम होता है।
4. खाने के साथ टमाटर और प्याज का सलाद काली मिर्च व नमक छिड़क कर खाएं। इससे आपको विटामिन सी, विटामिन ए, विटामिन के, आयरन, पोटैशियम, लाइकोपीन और ल्यूटिन एक साथ मिलेंगे।


गंजापन, बालों का झड़ना , सफ़ेद बालों के लिए 18 आयुर्वेदिक उपाय

गंजापन, बालों का झड़ना , सफ़ेद बालों के लिए 18 आयुर्वेदिक उपाय



1- घी खाएं और बालों के जड़ों में घी मालिश करें।
2- गेहूं के जवारे का रस पीने से भी बाल कुछ समय बाद काले हो जाते हैं।
3- तुरई या तरोई के टुकड़े कर उसे धूप मे सूखा कर कूट लें। फिर कूटे हुए मिश्रण में इतना नारियल तेल डालें कि वह डूब जाएं। इस तरह चार दिन तक उसे तेल में डूबोकर रखें फिर उबालें और छान कर बोतल भर लें। इस तेल की मालिश करें। बाल काले होंगे।
4- नींबू के रस से सिर में मालिश करने से बालों का पकना, गिरना दूर हो जाता है। नींबू के रस में
पिसा हुआ सूखा आंवला मिलाकर सफेद बालों पर लेप करने से बाल काले होते हैं

त्वचा निखारने और खून बढ़ाने के लिए करें हरी मिर्च का सेवन

त्वचा निखारने और खून बढ़ाने के लिए करें हरी मिर्च का सेवन



हरी मिर्च ऐसी एंटीऑक्सीजडेंट होते हैं जो शरीर को कैंसर के खतरे को कम करता है। शरीर को उन सभी फ्री रेडिकल्स से बचाते हैं जो कैंसर का कारण बनते हैं।
2.जुकाम के समय इसमें मौजूद विटामिन सी नाक बंद नाक को खोलता है और सांस लेने में अगर दिकक्त हो रही है तो इससे राहत देता ह
3.मिर्च खाने से त्वचा में निखार आता है। जी हां! भारत में मिलनी वाली मिर्च में विटामिन ई काफी मात्रा में होता है जो त्वचा को अच्छा करता है।




जानिये हल्दी के 12 औषधीय गुण

जानिये हल्दी के 12 औषधीय गुण




हल्दी का प्रयोग लगभग सभी प्रकार के खाने में किया जाता है। यह व्यंजनों के स्वाद में तो इजाफा करती ही है साथ ही इसमें अनेक औषधीय गुण भी होते हैं। त्वचा, पेट और शरीर की कई बीमारियों में हल्दी का प्रयोग किया जाता है। हल्दी के पौधे से मिलने वाली इसकी गांठे ही नहीं बल्कि इसके पत्ते भी बहुत उपयोगी होते हैं। आइए हम आपको हल्दी के गुणों के बारे में बताते हैं।
हल्दी का प्रयोग करने से लाभ
  1. दाग, धब्बे व झाइंया मिटाने के लिए हल्दी बहुत फायदेमंद है। चेहरे पर दाग या झाइंया चेहरे के दाग-धब्बे और झाइयां हटाने के लिए हल्दी और काले तिल को बराबर मात्रा में पीसकर पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाएं।
  2. हल्दी को दूध में मिलाकर इसका पेस्ट बना लीजिए। इस पेस्ट को चेहरे पर लगाने से त्वचा का रंग निखरता है और आपका चेहरा खिला-खिला दिखेगा।

पतले बालों को घना बनाने के 9 घरेलू उपाय

पतले बालों को घना बनाने के 9 घरेलू उपाय




हर किसी की चाहत होती है कि उसके बाल लंबे, घने और चमकीले हों, लेकिन आहार में पोषक तत्‍वों की कमी और हार्मोंन के असंतुलन के कारण बाल पतले हो जाते हैं, लेकिन घबराएं नहीं, यहां दिये गये घरेलू उपाय आपके लिए मददगार साबित हो सकते हैं।
1 पतले बालों की समस्‍या
बालों की झड़ने के साथ-साथ बालों के पतले की समस्‍या भी आजकल बहुत आम हो गई है। पतले बाल की समस्‍या कई कारणों से हो सकती हैं, जैसे बालों की ठीक से देखभाल न करना, हार्मोंन का असंतुलन होना या फिर आहार में पोषण तत्‍वों की कमी आदि। अगर आपके बाल भी पतले हो गए हैं और बालों में किसी भी प्रकार का हेयरस्‍टाइल नहीं जंचता। तो कुछ घरेलू उपाय आपकी इस समस्‍या को दूर करने में मददगार साबित हो सकते हैं। आइए ऐसे ही कुछ घरेलू उपचारों के बारे में जानते हैं जिनकी मदद से आप अपने पतले बालों को लंबा, घना और सुंदर बना सकते हैं।
2 फायदेमंद है आंवला
पतले बालों के लिए आंवले से अच्‍छा कुछ और हो ही नहीं सकता। यह बालों को मोटा, घना औार काला बनाता है। आंवला में एन्टीऑक्सीडेंट और विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है, इसलिए इसको न सिर्फ लगाने से बल्कि खाने से भी बालों के स्वास्थ्य को लाभ पहुंचते है। अगर आपको बालों को मोटा बनाना है तो नहाने से पहले बालों में आंवले का रस और नींबू का रस मिला कर लगाइये। इसके लिए आप दो चम्मच नींबू के रस में दो चम्मच आंवले का रस मिलाकर मिश्रण बना लें। फिर इस मिश्रण को सिर पर लगायें और सूखने के बाद गुनगुने पानी से धो लें।


ये हर्बल काढ़ा कर देगा 1महीने में आपका 25 किलो वजन कम



ये हर्बल काढ़ा कर देगा 1महीने में आपका 25 किलो वजन कम





सामग्री-
सुखी मेथी,दारुहल्दी,करंजी,आवला ,गिलोय,कुटकी,बहेड़ा,हल्दी,बबूल,कालीजीरी,मंजीठ,चिरायता,द्रोणपुष्पी,पंवार,भुमिआवला,हरड़,गूगुल,
बबुल गोंद,बाकुची




केला है दुनिया का सबसे बड़ा डॉक्टर, केले के पास हर बीमारी का इलाज.!!!

  • केला है दुनिया का सबसे बड़ा डॉक्टर, केले के पास हर बीमारी का इलाज.!!!

     

  • हमने कभी सोचा भी नही होगा कि आखिर केला खाने वाले बन्दर लम्बी लम्बी छलाँगें कैसे लगा लेते हैं। हमने कभी सोचा भी नही होगा कि आखिर ताकत बन्दर में होती है या केले के अंदर। हमने कभी सोचा भी नही होगा कि केला आखिर बंदरों का सबसे पसंदीदा भोजन क्यों है। कभी कभी आप यह भी देखते होंगे कि कुछ लोग बंदरों को ढूंढ ढूंढ कर केले खिलते हैं लेकिन खुद केले के गुणों से अंजान रहते है। हम अक्सर यह भी देखते हैं की कुछ लोग गैस, अपच, कब्ज होने पर डॉक्टर के पास जाकर हजारों रुपये खर्च कर देते हैं लेकिन सबसे सस्ती दवा केले के पास जाने की सोच ही नहीं पाते। आइये पढ़ते हैं केला खाने से क्या क्या फायदे होते हैं और किन किस बीमारियों से बचा जा सकता है।
➡ केला : इलाज से रोकथाम अधिक अच्छा :
  • सबसे पहले हमें यह जानना चाहिए कि बीमारियों के इलाज से बीमारियों का रोकथाम अधिक अच्छा है। हमें चाहिए की बीमारियां हमारे शरीर में लगने ही ना पाएं। अगर हम केले को अपनी भोजन में नियमित रूप से शामिल कर लें तो सभी बीमारियों से बचा जा सकता है।
➡ बीमारियां केवल दो ही कारणों से होती हैं
  1. शरीर में खून की कमी
  2. पेट में गैस, अपच, कब्ज
  • ध्यान दीजिये, अगर हमारे शरीर में खून की कमी है तो पेट में गैस और कब्ज की समस्या जरूर होती है और अगर पेट में गैस और कब्ज की समस्या है तो शरीर में खून की कमी होने लगती है। केला खून में हीमोग्लोबिन बढ़ाने का सबसे बढ़िया श्रोत है।नियमित रूप से केले का सेवन करते रहने पर पेट में गैस और कब्ज की समस्या से छुटकारा मिलता है।
  • ध्यान दीजिये, शरीर की सभी बीमारियां पेट से ही शुरू होती हैं। चाहे फेफड़े और सांस की बीमारी हों, चाहे दिल और दिमाग की बीमारी हों, चाहे किडनी और आहारनाल की बीमारी हों और चाहे हड्डियों और गठिया की बीमारी हों। पेट में कब्ज और गैस से शरीर में खून बनना कम हो जाता है और हमारे खून में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है। इसका नतीजा यह होता है कि हमारी साँसों, फेफड़ों, ह्रदय, किडनी आदि में कमी आनी शुरू हो जाती है। इन अंगों के ढीले पड़ने से और सही ढंग से काम ना करने से हमें धीरे धीरे डायबिटीज या कैंसर की बीमारी होनी शुरू हो जाती है। इसके बाद ही टेंशन, तनाव, रक्तचाप आदि की समस्या शुरू होती है और हम डॉक्टरों के पास भागते रहते हैं।
  • याद रखिये, पक्के केले के सेवन से अधिक फायदे होते हैं। केला जितना अधिक पका होगा आपके खून में हीमोग्लोबिन की मात्रा उतनी अधिक बढ़ाएगा। कच्चे या अधपके खेले के सेवन से भी फायदा होता है लेकिन इन्हें खाने से पेट में गैस और कब्ज में आराम मिलता है। कच्चे केले की सब्जी भी खायी जा सकती है। याद रखिये अगली बार आपको गैस और कब्ज की शिकायत हो तो गैस की दवा खाने के बजाय चार पांच केले जरूर खाएं। इससे भूख तो शांत होगी ही, आपके शरीर में ब्लड बनेगा और पेट की गैस और कब्ज से छुटकारा मिलेगा। यह भी याद रखें, यह मत सोचिये कि केवल एक दो केले खाने से आप हमेशा के लिए स्वस्थ हो जाएंगे, नियमित रूप से या हफ्ते में तीन बार केले का सेवन जरूर करें।
  • याद रखिये, अगर आपका पेट सही है, खाना सही ढंग से पच रहा है, गैस और कब्ज की समस्या नहीं है तो आपके शरीर में खून की मात्रा सामान्य बनी रहेगी। अगर आपके शरीर में खून की मात्रा सामान्य रहेगी तो खून में उपस्थित हीमोग्लोबिन ऑक्सीजन को आपके शरीर की हर सेल में बराबर मात्रा में पहुंचाते रहेंगे और आपके फेफड़े स्वस्थ बने रहेंगे रहेंगे। फेफड़ों के स्वस्थ रहने से आप सांस की बीमारियों से दूर रहेंगे। शरीर में खून की मात्रा सामान्य रहेगी तो आपके ह्रदय और किडनी जैसे अंग भी सही ढंग से काम करते रहेंगे और खून में पाए जाने वाले अवशिष्ट पदार्थों को फ़िल्टर करते रहेंगे शरीर में खून की मात्रा सामान्य रहेगी तो आपकी सेल और हड्डियों को कैल्शियम, सोडियम, पोटैशियम और आयरन बराबर मात्रा में मिलता रहेगा। यह सब केवल केले को नियमित रूप से आहार में शामिल करने से हो सकता है। याद रखिये केला सिर्फ बंदरों का भोजन नहीं है बल्कि हमारे लिए भी कुदरत का वरदान है। केला ना सिर्फ सस्ता होता है बल्कि यह गुणों की खान होता है। केला अमीर भी खा सकते हैं और गरीब भी इसलिए केला खाइए और सभी बीमारियों को दूर भगाइए।
  • याद रखिये कुछ लोग हमारी बातों से असहमत होकर कह सकते हैं कि केला खाने से डायबिटीज हो सकता है, या डायबिटीज वालों को केला खाने से नुकसान हो सकता है। बता दें कि डायबिटीज बीमारी पेट में लम्बे समय तक गैस और कब्ज की समस्या रहने के बाद होती है और इस बीमारी में लीवर के बगल में पाया जाने वाला अंग पैंक्रियाज काम करना बंद कर देता है। अगर नियमित रूप से केले का सेवन किया जाए तो ना तो पेट में गैस और कब्ज होगी और ना ही डायबिटीज जैसे जानलेवा बीमारी होगी

हमेशा याद रखिये ये 10 लाजवाब नुस्खे, यकीन कीजिये आपको कोई रोग छू भी नही पायेगा..!!

    हमेशा याद रखिये ये 10 लाजवाब नुस्खे, यकीन कीजिये आपको कोई रोग छू भी नही पायेगा..!!

     

    हमारा लाइफस्टाइल दिनों दिन बदलता जा रहा है। घर की बजाए बाहर का खाना हमें ज्यादा टेस्टी लगता हैं नतीजा कभी गला खराब तो कभी खांसी लेकिन हर बार दवाई लेने से बेहतर हैं कि हम कुछ घरेलू नुस्खों को अपनाएं और जल्द राहत पाएं।
    भारतीय रसोई में आपको हर मर्ज की दवा मिलेगी। आइए जानते हैं कुछ ऐसे नुस्खे जो आपकी दादी-नानी के समय से मशहूर हैं।
  1. गर्म दूध और हल्दी : हल्दी सिर्फ दाल-सब्जी में ही डाले जाने वाला मसाला ही नहीं हैं। इसमें कई औषधीय गुण भी हैं। सौंदर्य से ले कर त्वचा, पेट और सर्दी आदि के लिए भी हल्दी उपयोगी होती है। सर्दी जुखाम हो या चोट लगी हो हल्दी वाला गर्म दूध पीने से तुरंत राहत मिलती है।
  2. अजवाइन और नमक : नमक-अजवाइन के परांठे तो सबको अच्छे लगते हैं लेकिन जब पेट खराब या बदहज़मी हो, तो बस आधा चम्मच अजवाइन एक चुटकी नमक के साथ फांके और बदहज़मी दूर हो जाएगी।
  3. तुलसी और काली मिर्च : तुलसी सबके घरों में आम होती हैं क्योंकि लोग इसकी पूजा करते हैं लेकिन आपको बता दें कि यह हमें बीमारियों से भी दूर रखती हैं। 10-15 तुलसी के पत्ते और 8-10 काली मिर्च के दानों की चाय बनाकर पीने से खांसी, सर्दी और बुखार में आराम मिलता है।
  4. अदरक की चाय : अदरक कड़वी जरूर होती हैं लेकिन इसका स्वाद अच्छा लगता हैं अदरक वाली चाय सर्दी जुकाम से तुरंत राहत दिलाती हैं और माइग्रेन के लिए भी फायदेंमंद होती है।
  5. कच्चे बादाम : बादाम रातभर भिगोकर और छिलका निकालकर खाना चाहिए। ये आंखों की रोशनी बढ़ाते हैं। इससे याद्दाश्त तेज होती है।
    6. सरसों का तेल : सरसों का तेल भी लाभकारी होता है। ज़रा सा गर्म कर के जोड़ों में लगाया जाए तो दर्द में आराम मिलता है इससे खुश्की भी खत्म होती है।

सफेद दाढ़ी और मूंछ से छुटकारा कैसे पायें | दाढ़ी और मूछ के सफेद बालों के लिए रामबाण घरेलू उपचार

सफेद दाढ़ी और मूंछ से छुटकारा कैसे पायें | दाढ़ी और मूछ के सफेद बालों के लिए रामबाण घरेलू उपचार

 

कुछ व्यक्तियों के समय से पहले ही दाढ़ी और मूंछ के बाल सफेद हो जाते हैं. जिसके कारण उन्हें कई स्थानों पर अपने ही उम्र के लोगों के साथ या दोस्तों के साथ खड़े होने में शर्म महसूस होती है. दाढ़ी या मूंछ के बालों का रंग जल्द सफ़ेद हो जाने के पीछे भी बहुत से कारण हैं.
बाल सफेद होने का कारण पैतृक प्रभाव भी होता है या बहुत ज्यादा तनाव लेना या बहुत ज्यादा सोंचना तथा शराब का ज्यादा सेवन करना और गर्मी करने वाले आहार का ज्यादा सेवन करना

मेलनिन के मात्रा कम होने के कारण मूछ और दाढ़ी के बाल सफेद होने लगते है मेलनिन ऐसा तत्व है जो आपके बालों और त्वचा के रंग को सही रखने में मदद करता है लेकिन उम्र के साथ शरीर में मेलनिन की मात्र कम होने के कारण बालों और त्वचा का रंग फीका पड़ने लगता है

दाढ़ी और मूछ के सफेद बालों को काला बनाने का उपचार :-

1. कड़ी पत्ते का पानी :-

कड़ी पत्ता 100 मिलीलीटर पानी में थोड़ी से कड़ी पत्तियां डाल कर तब तक उबाले जब तक पानी आधा न रह जाये पानी आधा हो जाने के बाद इसे पी ले रोजाना यह उपचार आजमाने से आपको फायदा मिलेगा

2. दाल और आलू का पेस्ट :-

इस बेहतरीन आयुर्वेदिक नुस्खे से आप मूछ के सफेद बालों से छुटकारा पा सकते है आलू और दाल से बना पेस्ट मूछ के सफेद बाल को हटाने में बहुत मदद आता है आलू में ब्लीचिंग के प्राकृतिक गुण होने के कारण आलू को दाल के साथ मिलाकर दाढ़ी व् मूछो का प्राकृतिक रंग वापिस आ जाता है

3. फिटकरी और गुलाब जल :-

फिटकरी और गुलाब जल से बने पेस्ट को अपनी मूछो पर लगाकर आप  मनचाहा रंग प्राप्त कर लम्बे समय तक आप जंवा बने रह सकते है इसके लिए फिटकरी को पीसकर इसके पाउडर को गुलाब जल में मिलाकर आप अपनी मूछ पर लगाए

4. पुदीने की चाय :-

इस चाय में बालों को प्राकृतिक दिखाने के सारे गुण मौजूद होते है तथा यही कारण है की आपको इसका सेवन ज्यादा से ज्यादा करना चाहिए पुदीने की चाय का सेवन करके मूछो के बालों की असली रंगत वापिस मिलती है इससे भी आप मूछ और दाढ़ी के बालों को काला कर सकते है

5. नारियल का तेल और कड़ी पत्ता :-

दाढ़ी और मूछ के सफेद बालों से छुटकारा पाने के लिए कुछ कड़ी पत्ते ले और इन्हे नारियल के तेल में डालकर उबाल ले तेल में पत्तो को उबालने के बाद उसे उतारकर ठंडा कर ले और फिर इस तेल से अपनी दाढ़ी और मूछो की मालिश करें इस तेल का प्रयोग आप अपने सिर के बालों को काला करने के लिए भी कर सकते है इस तेल से मालिश करने से आपके सफेद बाल कुछ ही दिनों में काले हो जायंगे

6. आवंला जूस :-

जिनकी दाढ़ी पक रही है उनको एक महीने तक लगातार आवंले के रस का सेवन करना चाहिए यह बहुत प्रभावशाली उपाय है

सावधानिया :-

यदि आप चाहते है की आपकी दाढ़ी और मूछ का रंग सफेद न हो तो इसके लिए अपने रोजाना के भोजन में फल ,हरि सब्जियां ,दाल तथा प्रोटीन युक्त पदार्थो का सेवन करें तथा जंक फ़ूड खाना,शराब का सेवन करना छोड़ दे इसके साथ ही अपने सफेद बालों को छुपाने के लिए डाई का प्रयोग बिलकुल न करें क्योकि इनमे केमिकल मिले होते है

आइए जानते है वजन कम करने मे अमला के फायदे

आइए जानते है वजन कम करने मे अमला के फायदे




  • आमला जूस का सेवन करे |
  • रोज़ सुबहा कच्चा आमला खाए |
  • आमला का मुरब्बा भी बनाकर उसका सेवन कर सकते है उससे भी आपका वज़न कम होगा |