Monday, 31 October 2016

नाश्ते में दही खाने के आश्चर्यजनक फायदे।

नाश्ते में दही खाने के आश्चर्यजनक फायदे।


नियमित् रूप से नाश्ते में दही का सेवन करने से रोग प्रतिरोधक शक्ति का विकास होता है और संक्रामक रोग नही होते। दही से हमारे शरीर को भरपूर कैल्शियम, प्रोटीन, जिंक, राइबोफ़्लेविन तथा विटामिन B-12 मिलता है, इसके नियमित सेवन से हमारे शरीर की रोगों से लडने की शक्ति बढती है। आंवले के चूर्ण के साथ दही का सेवन करने से शरीर के सभी दोष दूर होते है

अगर आप दही में थोडा सा गुड या आंवला पाउडर मिला कर खाए तो दही अमृत जैसा हो जाता है.

अपच:

दही में भुना हुआ पिसा जीरा, नमक और कालीमिर्च डालकर रोजाना खाने से अपच (भोजन न पचना) ठीक हो जाता है और भोजन जल्दी पच जाता है

आधासीसी का दर्द:

यदि सिर दर्द सूर्य के साथ बढ़ता और घटता है तो इस तरह के सिर दर्द को आधासीसी (आधे सिर का दर्द) कहते हैं। आधासीसी (आधे सिर का दर्द) का दर्द दही के साथ चावल खाने से ठीक हो जाता है। सुबह सूरज उगने के समय सिर दर्द शुरू होने से पहले रोजाना चावल में दही मिलाकर खाना चाहिए।

बच्चों का भोजन:

दही, मां के दूध के बाद बच्चे का सबसे अच्छा भोजन होता है। बुल्गोरिया में जिन बच्चों को मां का दूध उपलब्ध नहीं हो पाता है। उन बच्चों को खाने के लिए दही ही दिया जाता है

वजन करे कम-

दही में मौजूद कैल्शियम शरीर पर फैट नहीं बढ़ने देता। शरीर पर बढ़ा हुआ फैट कई तरह की समस्याओं को साथ ले आता है जैसे उच्च रक्तचाप और मोटापा। एक शोध के मुताबिक हर रोज 5 चम्मच दही पेट कम करने में मदद करता है।

हाई न्यूट्रिशन-

विटामिन ए, डी, और बी-12 से युक्त दही में 100 ग्राम फैट और 98 ग्राम केलोरी है। लगभग सभी लवण दही में मौजूद होते हैं। दही में भरपूर मात्रा में कैल्शियम होता है जो हडि्डयों को मजबूत करता है।

पाचन के लिए बेहतर-

किसी भी प्रकार के खाने को दही से हजम किया जा सकता है क्योंकि दही भोजन प्रणाली को दुरूस्त बनाए रखता है। हर रोज एक कटोरी दही आपको एसिडिटी से भी दूर रखेगा और जिन्हें यह परेशानी रहती है उन्हें अपने खाने में दही जरूर शामिल करना चाहिए। दही से पेट की बहुत सारी परेशानियों को दूर किया जा सकता है।

बालों का झड़ना:

खट्टे दही को बालों की जड़ों में लगाकर थोड़ी देर मालिश करने के बाद उसे ठण्डे पानी से धो लें। इससे बाल झड़ना बंद हो जाते हैं।

गंजेपन का रोग:

दही को तांबे के बर्तन से ही इतनी देर रगडे़ कि वह हरा हो जाए। इसको सिर में लगाने से सिर की गंजेपन की जगह बाल उगना शुरू हो जाते हैं।

अफारा (पेट में गैस का बनना):

दही की छाछ (दही का खट्टा पानी) को पीने से अफारा (पेट की गैस) में लाभ होता है।

रतौंधी:

दही के पानी में कालीमिर्च को पीसकर आंखों में काजल की तरह लगाने से रतौंधी के रोग में आराम आता है।

जीभ की प्रदाह और सूजन:

दही में पानी मिलाकर रोजाना गरारे करने से जीभ की जलन खत्म हो जाती है।
दही के साथ पका हुआ केला सूर्योदय (सूरज उगने से पहले) से पहले खाने से जीभ में होने वाली फुन्सियां खत्म हो जाती है।

हडि्डयों और दांतों को मजबूत बनाए-

कैल्शियम और फास्फोरस हडि्डयों को मजबूत करने के लिए बेहद जरूरी लवण है और दही में यह भरपूर मात्रा में होते हैं। गठिया की बीमारी से परेशान लोगों के लिए दही बेहतर माना जाता है।

सेहतमंद दिल –

आज की भागदौड़ भरी जीवन शैली और जंक फूड खाने की आदत से आपके दिल पर काफी असर पड़ता है। हर रोज खाने में दही को शामिल करने से आपका दिल मजबूत रहेगा और कई बीमारियों से बचे रहेंगे। दही शरीर में कोलेस्ट्रोल की मात्रा कोे कम करता है और ब्लड प्रेशर की समस्या से भी दूर रखता है

अगर अपनाएंगे ये 5 आदते तो आप निश्चित रूप से स्लिम और फिट हो जायेंगे।

अगर अपनाएंगे ये 5 आदते तो आप निश्चित रूप से स्लिम और फिट हो जायेंगे।


Habits to stay fit and slim.

हम में से बहुत से लोग आज फिट होने के लिए क्या क्या नहीं करते, जिम जाते हैं, अपने खाने का तरीका भी बदलते हैं, और अपनी जीवन शैली भी बदल देते हैं, हम अपने सामने एक ऐसे लक्ष्य को रखते हैं जिसको पाना बहुत कठिन होता हैं, और अंत में निराशा और कुंठित हो जाते हैं
अगर आपको फिट रहना हैं तो आपको कुछ अन्य आदतो को अपने जीवन में शामिल करना होगा। तो क्या हैं ये आदते, आइये जाने

1. अच्छे से सोये और देर रात तक जागने से बचे।

अगर आप जिम में अच्छी मेहनत करते हो और अपने खाने पर भी पूरा ध्यान देते हो और फिर भी आपको अच्छे रिजल्ट नहीं मिल रहे हैं तो, अपनी सोने की आदत पर नज़र दौड़ाये। आप इसको माने चाहे ना माने, मगर आपकी नींद आपके द्वारा सेवन किये गए आहार को नियंत्रित करती हैं। आपके द्वारा लिया गया फैट एक्सरसाइज के बाद पूरी नींद लेने से बॉडी उसको अच्छे से पचा लेती हैं और आपके शरीर में अधिक फैट जमा नहीं होने देती। इसलिए फिट रहने के लिए अच्छी नींद बहुत ज़रूरी हैं।

2. योग और प्राणायाम।

देश ही नहीं बल्कि विदेश में भी योग और प्राणायाम को फिट रहने के लिए बेहद महत्वपूर्ण माना जाता हैं, अगर आप जल्दी फिट और स्लिम होना चाहते हैं तो आपको इसको नियमित अपनी दिनचर्या में शामिल करना होगा। बहुत सारे योगासन और प्राणायाम हैं जो आपके फिट रहने का स्वप्न बहुत जल्दी या यूँ कहे के चुटकी बजाने जैसा हो जायेगा। एक स्वस्थ व्यक्ति के लिए आधा घंटा योग और प्राणायाम ज़रूर करना चाहिए।

3. अपने कार्य स्थल पर अधिक एक्टिव रहे।

सिर्फ जिम ही नहीं बल्कि ऑफिस में या हमारे कार्य स्थल पर हमको एक्टिव रहना पड़ेगा, हालांकि हमारे ऑफिस में एक्टिव रहने के मौके बहुत कम होते हैं, मगर हमको खुद ही इनको बनाना पड़ेगा ताकि हम ऑफिस के समय में एक्टिव रहे और हमारी हमारे शरीर में अधिक फैट ना जमा हो। हर दो तीन घंटे में पांच दस मिनट का ब्रेक ले और बीच बीच में कुर्सी से उठ कर खड़े हो जाए थोड़ा घूम फिर ले, अपने शरीर को थोड़ा सा खिंचाव दीजिये जिस से एनर्जी आपके शरीर में दौड़े।

4. पानी अधिक पिए।

अगर आप अधिक फैट जलाना चाहते हैं या स्लिम और फिट रहना चाहते हैं तो आपको पुरे दिन में ज़्यादा पानी पीना चाहिए। पानी आपके लिवर मेटाबॉलिज़्म को सही रखता हैं और इस से आपकी बॉडी की फैट सही रहती हैं। ध्यान दे जब भी पानी पिए बैठ कर ही पिए। अगर आप अधिक कार्बोहाइड्रेट ले रहे हैं तो ये ग्लूकोज़ को शरीर में बनाने में मदद करेगा जिस से आपको एनर्जी मिलती हैं और आपको भूख भी कम लगेगी।

5. पोषक आहार खाए।

आप को ये ध्यान रखना होगा के आप कितना फैट ले रहे हैं और आपके शरीर को कितना चाहिए। आपको अपने खाने पर पूरा ध्यान देना होगा। अपने भोजन में फल और सब्जियों को विशेष जगह दे। जहाँ तक हो सके फल ही खाए, जूस से बचे। और सोडा, सॉफ्ट ड्रिंक, चॉक्लेट, बर्गर, पिज़्ज़ा, केक ऐसी चीजो से दूरी बना कर रखे। और भोजन में अधिक कैल्शियम और प्रोटीन वाले खाद्य पदार्थ खाए।

झड़़ते बालों के लिए अदरक और नींबू के रस से जुड़े ये उपाय अपनाएं

झड़़ते बालों के लिए अदरक और नींबू के रस


 से जुड़े ये उपाय अपनाएं



औरतों के बाल झडऩा सामान्य सी बात है, कंघी करते वक्त बाल अक्सर गिरते हैं। लेकिन यदि ज्यादा गिरने की समस्या है तो आपको कुछ घरेलू उपाय करने की जरूरत है। इन उपायों में सबसे असरदायक है नींबू और अदरक का रस। सोते समय रात को अदरक और नींबू के रस को बराबर मात्रा में मिलाकर सिर पर लगाएं। सुबह उठकर धोलें। ऐसा सप्ताह में दो बार करें, असर जल्द होगा। इसके अलावा नींबू के रस के अन्य नुस्खे भी कारगर साबित होते हैं, जिन्हें यहां बताया जाएगा
नींबू के रस से जुड़े इन छोटे-छोटे उपायों को करके तो देखिए, नहीं गिरेंगे बाल…
– बरगद (बड़) के दूध में नींबू का रस मिलाकर निरंतर बालों में लगाने से उनका झडऩा बंद हो जाता है।
– नारियल के तेल में थोड़ा सा नींबू का रस और कपूर मिलाएं। इस दिन में दो बार सिर पर लगाने से बालों का गिरना रुक जाएगा।
– आंवले और नारियल के तेल का मिश्रण भी बालों के लिए बढिय़ा उपाय है। इसके लिए दो चम्मच सूखे आंवले को एक कटोरी नारियल तेल के साथ मिलाकर कुछ देर गर्म करें। ठंडा करके इसे प्रतिदिन लगाएं। बाल गिरना कम हो जाएंगे।
– नारियल तेल या बादाम के तेल से सिर की अच्छी तरह से मालिश करनी चाहिए। बालों पर धीरे-धीरे मलें।
– सरसों के तेल में मेंहदी के पत्ते डालकर उबाल लें। इसे रात को सोते समय सिर पर लगाएं। सुबह पानी से धीरे-धीरे बालों को साफ कर लें।
– प्याज में जरा सा पानी डालकर पीस लें। इसका रस छानकर बालों की जड़ों में लगाएं। आधे घंटे बाद शैम्पू कर लें। हफ्ते में तीन बार ऐसा करें।
– जैतून के तेल में एक चम्मच शहद और एक चम्मच दालचीनी पाउडर मिलाकर उनका पेस्ट बनाएं। नहाने से पहले इस पेस्ट को सिर पर लगाएं। कुछ समय बाद सिर धो लें।
– ज्यादा बाल गिर रहे हों तो ग्रीन टी को पीसकर बालों में लगाएं। इसके लिए चाय को उबालकर छान लें और पानी से हेयर वाश करते समय बालों में डालें। ये बहुत अच्छे कंडीशनरका काम करता है।
– नीम की पत्तियों को पीसकर नींबू का रस डालें। फिर सिर पर लगाएं, इसके नियमित प्रयोग से बालों का झडऩा बंद हो जाता है

कमर का वजन घटाना हो गया आसान

कमर का वजन घटाना हो गया आसान


कमर का वजन घटाना हो गया आसानशरीर पर चरबी का अधिक होना मोटापे का सबसे बड़ा लक्षण होता है। गलत तरह से खान-पान करना, रहन सहन में भी गलत तरीके प्रयोग करना आदि जैसी वजह से पेट बाहर निकल जाता है। और कमर की चरबी अधिक हो जाती है। धीरे-धीरे मोटापा गर्दन, हाथ और पैरों तक फैल जाता है। यानी इन जगहों पर चरबी अधिक हो जाती है। शरीर पूरी तरह से चरबी युक्त हो जाता है। और इंसान को चलने फिरने में भी दिक्कतों के साथ-साथ कई गंभीर बीमारीयों के होने का खतरा भी अधिक बढ़ जाता है। आइये आपको बताते है कमर की चरबी को कम कैसे करें। आयुर्वेद में इसका इलाज संभव है।
हैल्थ ऐक्सपर्ट की सलाह पर जिम जाने से ही पेट कम नहीं हो जाएगा. वरन जिम में जा कर कब क्या करें कब क्या न करें, इस की जानकारी होनी भी जरूरी है…
कमर कम करने की सब से बड़ी रुकावट है जानकारी की कमी. आप यह टैस्ट कर के देख लें. अपने आसपास के जिमों में जा कर देखें, ज्यादातर मोटी महिलाएं जमीन या मशीन पर लेट कर अथवा कई और तरीकों से क्रंचेस (क्रंचेस आमतौर पर वे कसरतें होती हैं, जिन में आप घुटनों को नाक की तरफ लाती हैं या फिर नाक को पेट की तरफ) करती मिलेंगी. यह सब से पौपुलर कसरत है
यह कसरत 1-2 माह जम कर करने का नतीजा निकलता है कमर में कुछ सैंटीमीटर की कमी आना और पेट का सख्त होना. मैडम, क्रंचेस से सिर्फ पेट सख्त होता है. ये कसरतें उन लोगों के लिए हैं, जिन का पेट फ्लैट है और उन्हें ऐब्स बनाने हैं. अगर आप मोटी हैं, तो आप को फुल बौडी ऐक्सरसाइज करनी होगी. यकीन नहीं आता तो किसी बड़े हैल्थ प्रोफैशनल से कनफर्म कर लें. हम यह नहीं कह रहे कि क्रंचेस किसी काम के नहीं, मगर मोटे लोगों के लिए ये कुल कसरत का 10% ही रहें तो ही ठीक है.

पेट को कम करने वाली कुछ कसरतें

रनिंग, साइकिलिंग, पीटी, क्रौस टे्रनर, बर्पी, स्क्वेट थ्रस्ट, बौक्स जंप, स्किपिंग, कैटलबौल अथवा डंबल स्विंग. अगर आप के पास इंटरनैट की सुविधा है तो इन में से जिन कसरतों के बारे में आप को नहीं पता, उन्हें इसी नाम से सर्च कर के तसवीरें देखें. आप तुरंत समझ जाएंगी.

जरूर घटेगा पेट

आप जिम जाएं, पार्क जाएं और ऐसी कसरतों का चुनाव करें, जिन में आप के ज्यादा से ज्यादा बौडी पार्ट हिस्सा लें. इस बात को गांठ बांध लें कि स्पौट रिडक्शन जैसा कुछ नहीं होता. आप यह सोचें कि सिर्फ कमर कम हो जाए बाकी सब वैसा ही रहे तो यह सिर्फ प्रोफैशनल बौडी बिल्डरों के बस की बात है.
पेट के बारे में सोचना छोड़ कर वेट के बारे में सोचें. वेट कम करने के लिए कार्डियो (रनिंग, पीटी आदि) के साथसाथ वेट टे्रनिंग भी जरूरी है. विज्ञान के साथ चलेंगी तो वक्त और पैसा बरबाद होने से बचा पाएंगी. टाइम ज्यादा है और पास नहीं हो रहा तो ठीक है वरना अपनी कसरत में स्ट्रैचिंग को कम से कम शामिल करें. यह आप के किसी काम की नहीं. जरूरत से ज्यादा कार्डियो का मतलब है अपने पैरों की मसल्स को कमजोर करना. रोज रनिंग करना जरूरी नहीं. आसान कसरतों से वेट कम नहीं होता. आप 20 मिनट कार्डियो करें, उस के बाद वेट टे्रनिंग और फिर हलकीफुलकी स्ट्रैचिंग कर घर जाएं. कभीकभी कार्डियो भी छोड़ दें. बस वार्मअप करें और हैवी वेट टे्रनिंग करें. कभीकभी जिम भी छोड़ें और सिर्फ पार्क में वक्त बिताएं. चैलेंज लें, अपनी सीमाओं को पहचान कर उन्हें लांघने की कोशिश करें. पेट खुदबखुद कम हो जाएगा.
  • एक छोटा सा प्लास्टिक का डब्बा रख कर उस पर 1 घंटे तक वनटूवनटू करने से 10 गुना बेहतर है, जिम में मौजूद सारे वेट को एक से दूसरी जगह रखना. इस सच को स्वीकार करें कि वेट कम करने की कसरत स्टाइलिश नहीं होती. वह बुरी होती है, दम निकालने वाली होती है.
  • कमर की चरबी कम करने के लिए आप इन उपायों का प्रयोग कर सकते हो कमर की चरबी को कम करने का सबसे पहला नियम जो आयुर्वेद में है। वह है भूख से कम ही भोजन का सेवन करें। जितनी भूख है उससे कम ही खाना खायें। इससे पेट का आकार नहीं बढ़ता और पाचन भी ठीक रहता है। कम भोजन करने से पेट में गैस नहीं बनती है। कोशिश करें कि दिन में 2 बार शौच जाएं।
  • मोटापे से मुक्ति का एक और बड़ा सरल उपाय यह है कि भोजन के तुरंत बाद पानी का सेवन न करें। भोजन करने के लगभग 1 घंटे के बाद ही पानी पीयें। इससे कमर का मोटाप नहीं बढ़ता है। और यह तरीका पेट को कम करने में भी मददगार होता है।
  • भोजन में अधिक से अधिक जौ से बने आटे की रोटियों का इस्तेमाल करें। गेहूं के आटे की रोटी का सेवन बिलकुल कम कर दें। जौ शरीर में मौजूद अतरिक्त चरबी को कम कर देता है। जिससे कमर और पेट की चरबी कम हो जाती है।
    • वजन कम करने और अतरिक्त चरबी को कम करने के लिए आपको यह भी पता होना चाहिए कि भोजन में किन चीजों को इस्तेमाल करें और किन का नहीं। आपको चावल, आलू और चपाती का सेवन कम से कम मात्रा में करना चाहिए साथ ही खाने में कच्चा सलाद, सब्जी और मिक्स वेज का सेवन अधिक से अधिक करना चाहिए।
    • हमेशा खाना भूख लगने पर ही खाएं। खाना खाते वक्त यह बात जरूर ध्यान रखें कि खाने को मुंह में अच्छी तरह से बारीकी से चबाकर खाएं ताकि आसानी से भोजन गले से नीचे उतर सके।
    • सुबह के नाश्ते में आप चना, मूंग और सोयाबीन को अधिक से अधिक खाने में उपयोग करें। अंकुरित अनाज में आपको भरपूर मात्रा में पौष्टिक तत्व आपको मिलेगें। जो मोटापा को बढ़ने नहीं देगें। दलिया को भी आप अपने नाश्ते में जरूर शामिल करें।
    • कमर की अधिक चरबी को कम करने के लिए आपको अपने खाने में हरी सब्जियों का अत्याधिक सेवन करना चाहिए। आप मेथी, पालक, चैलाई की सब्जी को अपने खाने में शमिल करें। हरी सब्जियों में मौजूद कैल्श्यिम और फाइबर आपके शरीर में पोषक तत्वों को पहुंचाते हैं। और इनसे आपका शरीर भी स्वस्थ रहेगा।
    • गर्मियों में दही या मट्ठा के सेवन करने से शरीर के चरबी घटती है। दिन में 2 से 3 बार मट्ठा का सेवन करें।
      • सुबह खाली पेट गरम पानी में 2 चम्मच शहद डालकर 2 महीने तक सेवन करने से कमर का मोटापा कम होता है। इसके अलावा तेल की मालिश करने से भी कमर की चरबी को कम किया जा सकता है।
      • आपको अपने जीवन शैली में एक छोटा सा परिवर्तन लाना जरूरी है। जैसे चढ़ने और उतरने के लिए सीढ़ी का इस्तेमाल करें। साईक्लिंग करना, जाॅगिंग, टहलना, और व्यायाम जरूर करें। एैसा करने से आपकी कमर की चरबी तो कम होगी ही साथ ही आपको मोटापे से मुक्ति मिल जाएगी

अब दाँतों के डॉक्टर को भूल जाओ, खुद 5 मिनट में दाँतों में जमा मैल साफ कीजिये

अब दाँतों के डॉक्टर को भूल जाओ, खुद 5 मिनट में दाँतों में जमा मैल साफ कीजिये


Home Remedies for Yellow Teeth-पीले दांत के लिए घरेलू उपचार : आज वर्तमान युग में काफी लोग किसी न किसी नशे का शिकार है शराब,गुटका,पान,तम्बाखू .सिगरेट आदि का सेवन करते है ये सभी वस्तुए आपके चमकीले दांतों की चमक (Teeth shine) के साथ साथ आपको रोग से भी प्रभावित कर रहा है आपके दांतों (Teeth) की जड़ को कमजोर कर देता है आपका ये सेवन-जो लोग दिन में दो बार ब्रश और उचित साफ़ सफाई आदि करते है उनके दांत तो स्वस्थ है लेकिन जो लोग गुटके -पान शराब का सेवन अधिक मात्रा में करते है उनके दांतों पे पीला-पन (pallor) आ जाता है कई बार टेट्रासाइक्लिन (Tetracycline) नामक दवा के कारण भी दांतों पर पीले धब्बे पड़ जाते हैं जानकारी के अभाव में दांतों को साफ करने के लिए लोग कई तरह के केमिकल्स का इस्तेमाल करते हैं इसका भी दांतों पर बुरा प्रभाव पड़ता है तथा उम्र के साथ कई बार दांतों पर इनेमल की परत जमती चली जाती है जिसके कारण दांत पीले हो जाते हैं यदि आप दांतों (teeth) के पीलेपन से परेशान है तो ये कुछ प्रयोग करके आप अपने दांतों को पीलेपन से निजात दिला सकते है।
वैसे आज कल डेंटल चिकित्सा ने काफी तरक्की कर ली है डेंटल ब्लीचिंग( Dental Bleaching) से दांतों का पीलापन-पीले-लाल धब्बे, गुटखा, तंबाकू आदि के दाग आसानी से खत्म किए जा सकते हैं-डेंटल ब्लीचिंग कई तरह की होती है।
डेंटल ब्लीचिंग का कोई साइड इफेक्ट( side effect) नहीं होता और न ही दांतों पर इसका कोई प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है लेकिन डेंटल ब्लीचिंग के बाद कुछ सावधानियां बरतने की जरूरत होती है- ब्लीचिंग के तुरंत बाद दांतों पर डेंटिस्ट द्वारा दी गई क्रीम( Cream ) का प्रयोग करना चाहिए- इसे दांतों में कनकनाहट नहीं होती- ब्लीचिंग की प्रक्रिया के बाद कई बार दांतों में सेंसिविटी( Sensiviti ) बढ़ जाती है- लेकिन ये अस्थाई होती है- इसलिए ब्लीचिंग के बाद कुछ दिनों तक डॉक्टर के अनुसार ही खान-पान का ही पालन करना चाहिए।
क्या आप जानते है कि हमारे घर आँगन में पाई जाने वाली तुलसी( Basil ) में दांतों के पीलापन( yellow teeth ) को दूर करने की एक विशेष छमता होती है ये आपके मुंह और दांतों के रोग से भी आपको सुरक्षित रखती है आप तुलसी के पत्तों को सुखाकर पावडर बना ले फिर आप अपने Toothpaste( टूथपेस्ट ) में मिलाकर ब्रश करें इसके पावडर को मिलाकर करने से कुछ ही दिनों में आपके दांत पूरी तरह से चमकने लगते है।
संतरे के छिलके( Orange peel ) और तुलसी के पत्ते दोनों को सुखा ले और पावडर बना ले ब्रश करने के उपरान्त इस पावडर को दांतों पर हलके से मसाज करे संतरे में मौजूद विटामिन सी और कैल्सियम (Vitamin C and Calcium) के कारण आपके दांत मोती की तरह चमकने लगते है
.
नीम( Azadirachta indica) का उपयोग प्राचीन काल से ही दांत साफ करने के लिए किया जाता रहा है नीम में दांतों को सफेद बनाने व बैक्टीरिया को खत्म करने के गुण पाए जाते हैं यह नेचुरल एंटी-बैक्टीरियल( Natural Anti-Bacterial ) और एंटी-सेप्टिक( Anti-septic ) है आप को अगर आसानी से मिल सके तो पुरानी पद्धति को अपनाए और नीम की दातून( Neem Datun) करे आपके दांत स्वस्थ और चमकदार( Healthy and shiny) होंगे
एक गिलास पानी में आधा नींबू का रस मिलाएं-इसमें रातभर दातुन को रखकर छोड़ दें- सुबह इसी दातुन का इस्तेमाल करें-इससे दांतों का पीलापन समाप्त हो जाएगा-अगर प्रतिदिन दातुन नहीं कर सकते तो सप्ताह में एक दिन जरूर दातुन अवश्य करें- इससे दांत और मसूड़े( Teeth and gums ) स्वस्थ व मजबूत भी होते हैं।
.
खाने वाला सोडा यानि बेकिंग सोडा( Baking soda) सबसे अच्छा तरीका है ब्रश करने के बाद थोडा सा बेकिंग सोडा लेकर उसमे नीबू( Lemon ) की कुछ बुँदे मिलाये और हलके -हलके ब्रश में लगा कर दांतों में मालिस करे या फिर दोनों का आपस में पेस्ट बना कर एक सिल्वर फोयल( Silver foil) में लगा कर कुछ देर दांतों में चिपका ले फिर ठन्डे पानी से धो ले आपके दांत चमक जायेगे-ये दांतों पर जमी पीली परत (yellow layer) को धीरे-धीरे पूरी तरह साफ़ कर देता है।
दांत को साफ़ करने का एक पुराना नुस्खा है नमक -नमक (Salt) में दो-तीन बुँदे सरसों के तेल की मिला कर दांतों पे ब्रश से मालिस करे या उंगलियों से मसाज करे आपके दांत कुछ दिन में चमक उठेगें।
स्ट्रॉबेरी( Strawberry ) दांतों को चमकदार बनाने का सबसे बेहतरीन उपाय है स्ट्रॉबेरी में पाया जाने वाला मैलिक एसिड दांतों को सफेद और चमकदार बनाता है सबसे पहले स्ट्रॉबेरी को पीस लें- इसके पल्प( Pulp ) में थोड़ा बेकिंग सोडा मिलाएं और ब्रश करने के बाद इस मिश्रण को उंगली से दांतों पर लगाएं-कुछ दिनों तक यह उपाय नियमित रूप से करने पर दांत चमकने लगेंगे।
सूखा हुआ तेज पत्ता( Cassia ) लेकर आप उसे बारीक पीस लें और पिसे हुए पावडर से हर दूसरे या तीसरे दिन एक बार इस पावडर से दांतों पे मालिस करे आपके दांतों की खोई चमक वापस आने लगेगी ।
भोजन के बाद गाजर को धीरे-धीरे खूब चबा कर खाने की आदत डाले इसमें मौजूद रेशे आपके दांतों की सफाई करते है और दांतों का पीलापन भी कम होता है 

स्क्रबिंग दे बेहतर लुक

स्क्रबिंग दे बेहतर लुक

परमानेंट मेकअप

परमानेंट मेकअप

बॉडी पॉलिशिंग से दिखे खूबसूरत

बॉडी पॉलिशिंग से दिखे खूबसूरत

ब्लीच के राज

ब्लीच के राज

मेकअप के लेटेस्ट ट्रेंड

मेकअप के लेटेस्ट ट्रेंड

बेसिक मेकअप ट्रिक्स

बेसिक मेकअप ट्रिक्स

जुल्फों को सँवारे एक अदा से

जुल्फों को सँवारे एक अदा से

कुछ मिनट ब्यूटी के नाम

कुछ मिनट ब्यूटी के नाम

त्वचा से जुड़े कुछ मिथ

त्वचा से जुड़े कुछ मिथ